Shyam: Bhagvata ka Sachitra Punarkathan – Hindi

399.00 299.00

भागवत कृष्ण की कथा है और वे सभी उन्हें श्याम के रूप में जानते हैं जिन्होंने उनके श्यामल वर्ण सौंदर्य, प्रज्ञा व प्रेम को पाया है। यह रामायाण व महाभारत के बाद तीसरा महान हिंदू महाकाव्य है। यद्यपि इसका कथानक, हज़ारों वर्षों के दौरान कई अंशों में रचा गया – पहले हरिवंश में और फिर भागवत पुराण और अंतत: विविध प्रांतीय भाषाओं में संत-कवियों के प्रेममयी गीतों ने इसे इसका रूप प्रदान किया। यह पुस्तक कृष्ण के जन्म से ले कर उनकी मृत्यु तक का ताना-बाना बुनती है, जिसमें उनके प्रसन्नचित्त स्त्रियों और माखन से ओत-प्रोत जीवन में अवतरण से ले कर, क्रोधित पुरुषों से रक्त रंजित जगत में आरोहण शामिल है।.

Buy Now

Author:Devdutt Pattanaik
Categories: ,

देवदत्त पटनयायक आधुनिक युग में पौराणिकता की प्रासंगिकता पर लिखते हैं, चित्रांकन करते हैं व व्याख्यान देते हैं। वे 1996 से अब तक 30 से अधिक पुस्तकें व 600 से अधिक स्तंभ लिख चुके हैं कि किस प्रकार कहानियाँ, प्रतीक व अनुष्ठान संसार भर में प्राचीन व आधुनिक संस्कृतियों के मिथक रचते हैं। उनकी लिखी प्रमुख पुस्तकों में शामिल हैं: द बुक ऑफ़ राम, जय: एन इलस्ट्रेटिड रीटेलिंग ऑफ़ महाभारत, द गर्ल हू चोज़ और देवलोक विद देवदत्त पटनायक श्रंखला। वे विभिन्न संस्थाओं को नेतृत्व व प्रशासन से जुड़े परामर्श देते हैं। इसके अतिरिक्त वे टी.वी. चैनलों पर पौराणिक धारावाहिकों से भी जुडे़ हैं। उनके टी.वी. कार्यक्रमों में सीएनबीसी-टीवी 18 पर बिज़नेस सूत्र व एपिक टी.वी. पर देवलोक शामिल हैं।

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Shyam: Bhagvata ka Sachitra Punarkathan – Hindi”

Your email address will not be published. Required fields are marked *